1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अब रूस समर्थकों का कब्जा

यूक्रेन के क्रिमिया में सशस्त्र लोगों ने सरकारी इमारतों और संसद भवन पर कब्जा कर लिया है. माना जा रहा है कि ये लोग रूसी समर्थक हैं. अंतरिम सरकार ने पुलिस बल को अलर्ट पर रख दिया है.

रूसी समर्थक हथियारबंद लोगों ने यूक्रेन के क्रिमिया क्षेत्र में संसद भवन और सरकारी इमारतों पर कब्जा कर लिया है. इन लोगों ने इमारतों पर रूसी झंडा फहरा दिया. क्रिमिया यूक्रेन का स्वायत्त क्षेत्र है. क्रिमिया के प्रधानमंत्री अनातोली मोहिलयोव के मुताबिक राजधानी सिमफेरोपोल में तड़के हथियार से लैस 50 लोगों ने सरकारी इमारतों पर कब्जा करने के बाद कर्मचारियों को अंदर जाने से रोक दिया. मोहिलयोव ने कहा कि स्थानीय प्रशासन "कदम उठाने" की तैयारी कर रहा है. मोहिलयोव ने इस बारे में विस्तार से बताने से इनकार कर दिया. यूक्रेन में अंतरिम सरकार के आंतरिक मामलों के मंत्री अर्सेन अवाकोव ने कहा है कि सुरक्षा बल जुटाए जा रहे हैं.

फेसबुक पर जारी एक बयान में अवाकोव ने कहा, "आंतरिक सेना और पूरी पुलिस फोर्स को अलर्ट पर रखा गया है." मंत्री के मुताबिक इमारतों को घेर लिया गया है ताकि कोई "खूनखराबा" ना हो सके. एक बयान में स्थानीय सरकार ने कर्मचारियों से आज काम पर न आने को कहा है. यूक्रेन की समाचार एजेंसी इंटरफेक्स के मुताबिक दर्जनों पुरुष सेना की यूनिफॉर्म में सरकारी इमारतों में घुस गए. हालांकि एजेंसी का कहना है कि उनकी यूनिफॉर्म में किसी सेना या संगठन के निशान नहीं हैं.

Ukraine Demonstration auf dem Krim Simferopol Parlament

सरकारी इमारतों पर रूसी ध्वज लगा दिए गए

एजेंसी का कहना है कि हथियारबंद लोगों ने शीशों के दरवाजों पर फायरिंग की और इमारत में दाखिल हो गए. इस गोलीबारी में कोई भी घायल नहीं हुआ है. काले सागर का यह प्रायद्वीप रूसी समर्थक माना जाता है. रूसी समर्थक राष्ट्रपति विक्टर यानकुविच को हटाए जाने के बाद यूक्रेन में अलगाववाद की चिंता बढ़ गई है. क्रिमिया में ज्यादातर लोग रूसी समर्थक हैं और वो यूरोपीय संघ द्वारा समर्थित अंतरिम सरकार के विरोधी हैं.

एए/एएम (एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री