1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

अब नहीं पिघलेगी चॉकलेट

जल्द ही बाजार में ऐसी चॉकलेट आएगी जो गर्मी में नहीं पिघलेगी. यह दुनिया के गर्म देशों के लिए बनाई जा रही है. स्नैक्स बनाने वाली कंपनी मोंडेलेज इंटरनेशनल ऐसी चॉकलेट बनाने की कोशिश में लगी है.

कैडबरी और ओरियो कूकीज बनाने वाली कंपनी मोंडेलेज पिछले 10 साल से न पिघलने वाली चॉकलेट बनाने के लिए शोध कर रही है. पूर्वी यूरोप, मध्य पूर्व, अफ्रीका के लिए कंपनी के अध्यक्ष लॉरेंस मैकडुगल ने यह जानकारी दी है लेकिन इसकी तारीख उन्होंने नहीं दी है ना ही उन्होंने चॉकलेट में क्या होगा इसके बारे में कोई जानकारी दी है.

मैकडुगल ने संभावित नाम भी नहीं बताया उन्होंने बस इतना ही बताया है कि मोंडेलेज और स्नैक बनाने वाली दूसरी कंपनियों को सब सहारा अफ्रीका में जो समस्या होती है उसका हल यह नया उत्पाद सकता है. ऐसी जगहों पर लोग बाहर सामान खरीदें और उसे तेज गर्मी में बाहर ही रख सकेंगे. रॉयटर्स के साथ बातचीत में मैकडुगल ने बताया, "40 डिग्री में भी यह नहीं पिघलेगी. हमने इसका पेटेंट पिछले साल ही जारी कर दिया था. अब हम इसे बना रहे हैं. उम्मीद कर रहे हैं कि जल्द ही इसे व्यावसायिक स्तर पर भी हम बना सकेंगे. मौसम जहां हमें चुनौतियां देता है वहां और खुदरा बाजार में यह हमारे लिए फायदेमंद होगा."

दक्षिण अफ्रीका के मासमार्ट और केन्या के उचुमी सुपर मार्केट चेन अब अफ्रीका में और बढ़ रहे हैं लेकिन चॉकलेट वहां अभी भी नहीं पसंद की जा रही क्योंकि इसे ठंडा रखने में मुश्किल आती है. मैगडुगल ने कहा, "लागोस में आप मार्केट जाएं आपको ठंडा रखने वाली जगहें नहीं मिलेंगी. अगर सुपरमार्केट बढ़ते हैं तो हमारे लिए आसानी हो जाएगी. लेकिन अभी हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं."

अमेरिका और यूरोप में मोंडेलेज का बाजार पुराना और स्थिर हो गया है जबकि उभरती अर्थव्यवस्थाओं में संभावनाएं बढ़ रही हैं. भले ही अफ्रीका में एक अरब लोग रहते हों जिनमें से दो तिहाई की उम्र 35 से कम है. फिर भी मोंडेलेज का 2012 में वहां राजस्व सिर्फ एक अरब डॉलर का ही था.

एएम/एनआर (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री