1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अब दुनिया के आसमान में उड़ेंगे इंडिगो के विमान

हाल ही में एयरबस के साथ विमानों की दुनिया का सबसे बड़ा करार करने वाले इंडिगो एयरलाइंस के विमान अब दुनिया भर के आसमान में दिखेंगे. भारत सरकार ने अंतरराष्ट्रीय विमान सेवा के लिए मंजूरी दी.

default

इसी साल अगस्त में घरेलू उड़ान सेवा के पांच साल पूरे होने के साथ ही इंडिगो के विमान दुबई, मस्कट, बैंकॉक और सिंगापुर के लिए उड़ान भरने लगेंगे. यात्रियों की संख्या के आधार पर जेट एयरवेज के बाद दूसरे नंबर पर पहुंच चुकी भारत की इंडिगो एयलाइंस को आने वाली गर्मियों कि लिए अंतरराष्ट्रीय विमान सेवा शुरू करने की इजाजत दे दी गई है. ये दौर अप्रैल से शुरू हो कर अक्टूबर नवंबर तक जारी रहेगा.

बुधवार को इंडिगो एयरलाइंस की प्रवक्ता ने बताया कि भारत के अलग अलग शहरों से सिंगापुर, बैंकॉक, दुबई और मस्कट के लिए विमान सेवा शुरु की जाएगी. हालांकि इसके लिए तयशुदा कार्यक्रम के बारे मे कोई जानकारी नहीं दी गई. प्रवक्ता ने कहा, "आने वाले कुछ महीनों में अंतरराष्ट्रीय सेवा के कार्यक्रम का एलान किया जाएगा."

भारत में अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवा के लिए लाइसेंस हासिल करने के लिए एयरलाइंस को पांच साल तक घरेलू उड़ान सेवा देनी होती है और साथ ही कम से कम 20 विमानों का बेड़ा अपने पास रखना होता है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अगस्त में घरेलू उड़ान के पांच साल पूरा होने के तुरंत बाद अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवा शुरू कर दी जाएगी. अगस्त में ही कंपनी की स्थापना के भी पांच साल पूरे हो रहे हैं. इसके लिए तैयारियों जोरों पर है.

कंपनी की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, "इंडिगो इस महत्वपूर्ण अधिकार के मिलने से खुश है और लाइसेंस देने की प्रक्रिया समय से पूरी करने के लिए नागरिक विमानन मंत्रालय की शुक्रगुजार है"

इंडिगो एयरलाइंस के बेड़े में फिलहाल एयरबस ए 320 के 34 नए विमान हैं और घरेलू बाजार में उसका हिस्सा करीब 18.6 फीसदी है जो एयर इंडिया से ज्यादा और किंगफिशर के बराबर है. फिलहाल इंडिगो 24 शहरों के लिए हर रोज 221 उड़ानें मुहैया करा रही है. हाल ही में कंपनी ने विमान बनाने वाली कंपनी एयरबस को 150 से ज्यादा विमानों का आर्डर देकर सुर्खियां बटोरी थी. इससे पहले 2008 में भी कंपनी ने एयरबस को 100 विमान खरीदने का ऑर्डर दिया था.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः उज्ज्वल भट्टाचार्य

DW.COM

WWW-Links