1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अब ठन रही है अमेरिका और चीन के बीच

चीन के विरोध को दरकिनार कर अमेरिका ने दक्षिण कोरिया में एडवांस एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम की तैनाती शुरू कर दी है. अमेरिका ने ये कदम उत्तर कोरिया की ओर से किये गये बैलेस्टिक मिसाइल परीक्षण के बाद उठाया है.

अमेरिकी कमांडर हैरी हैरिस ने एक बयान जारी कर कहा "उत्तर कोरिया की ओर से लगातार उत्तेजक कार्रवाई के चलते अब यह साफ हो गया है कि पिछले साल हमारे गठबंधन द्वारा मिसाइल प्रतिरोधी प्रणाली, टर्मिनल हाई ऑल्टीट्यूड एरिया डिफेंस (टीएचएएडी) को तैनात करने का जो फैसला लिया गया था वह सही था." 
हालांकि अमेरिका के इस कदम से चीन और दक्षिण कोरिया के बीच संघर्ष गहराने की आशंका है. चीन का मानना है कि टीएचएएडी को तैनात करने से पूरे क्षेत्र का शक्ति संतुलन बिगड़ जायेगा और सुरक्षा गड़बड़ा सकती है. चीन का दावा है कि उसका क्षेत्र भी इस लंबी दूरी की प्रणाली के निशाने पर आयेगा जो उसकी सुरक्षा के लिये खतरा है. चीन के इस दावे को अमेरिका ने खारिज करते हुए कहा है कि टीएचएएडी का लक्ष्य उत्तर कोरिया की ओर से होने वाली आक्रामक और उत्तेजक कार्रवाई को रोकना है. चीन के विदेश मंत्रालय ने टीएचएएडी को लेकर खुले तौर पर अपना विरोध जताया है और साफ किया है कि चीन अपने हितों की रक्षा के लिये आवश्यक कदम उठायेगा. 

उत्तर कोरियाई मीडिया के हवाले से कहा गया था कि देश के नेता किम जोंग-उन की निगरानी में सोमवार को सेना की एक इकाई ने यह मिसाइल प्रक्षेपण किया था. इन मिसाइलों को ऐसे तैयार किया जा रहा है, जिससे जापान में मौजूद अमेरिकी सैन्य अड्डों पर निशाना साधा जा सके. अमेरिका के दक्षिण कोरिया के साथ चल रहे संयुक्त सैन्य अभ्यास को उत्तर कोरिया अपने लिये खतरा मानता है. 


सोमवार को उत्तर कोरिया की ओर से किये गये मिसाइल परीक्षण पर जापान और दक्षिण कोरिया ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी. जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा था, "बैलेस्टिक मिसाइलों का ताजा परीक्षण उत्तर कोरिया की तरफ से पैदा हो रहे खतरे को दिखाता है."
इस मसले पर अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने मंगलवार को फोन पर भी चर्चा की. उत्तर कोरिया ने परीक्षण ऐसे वक्त में किये हैं जब कोरियाई प्रायद्वीप में दक्षिण कोरिया और अमेरिकी सेना संयुक्त सैन्य अभ्यास कर रही है.
उत्तर कोरिया की समाचार एजेंसी के मुताबिक कोरियाई नेता किम जोंग-उन ने सेना को किसी भी स्थिति से निपटने और युद्ध जैसी स्थिति के लिए तैयार रहने के आदेश दिये हैं. 

एए/आरपी (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री