1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अब ग्रीनपीस पर मेहरबान पुतिन

कूटनीति के माहिर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के नए फैसले ने फिर सबको हैरान कर दिया है. खोदोरकोव्स्की और पूसी रायट की रिहाई के बाद अब रूस ने ग्रीनपीस कार्यकर्ताओं के खिलाफ भी मुकदमे गिराने शुरू कर दिये हैं.

पर्यावरण संगठन ग्रीनपीस के सितंबर में गिरफ्तार किए गए एक कार्यकर्ता का केस मंगलवार को बंद कर दिया गया. केस बंद करते हुए कहा गया कि ग्रीनपीस कार्यकर्ता को माफी दी गई है. ग्रीनपीस के 30 कार्यकर्ताओं को रूस ने आर्कटिक से गिरफ्तार किया था. उत्तरी ध्रुव में पर्यावरण से हो रही छेड़छाड़ का विरोध करते हुए ये कार्यकर्ता रूस के तेल प्लेटफॉर्म पर चढ़ गए थे. इनमें दो पत्रकार भी शामिल हैं.

रूस ने पहले सभी पर लूटपाट का आरोप लगाया, हालांकि बाद में इसे हुड़दंग की धारा में बदल दिया गया. 26 को अब तक जमानत मिल चुकी है, लेकिन जमानतियों को रूस से बाहर जाने की अनुमति नहीं है. पिछले हफ्ते पास हुए माफी कानून के तहत माना जा रहा है कि रूस ग्रीनपीस के सभी कार्यकर्ताओं को माफ कर देगा.

माफी मिलने पर उन पर चलाया जा रहा मुकदमा गिरा दिया जाएगा. मंगलवार की माफी को इस दिशा में पहला कदम माना जा रहा है. ग्रीनपीस की प्रवक्ता वियोलेटा रिआबको के मुताबिक रूसी जांचकर्ता सभी 30 कार्यकर्ताओं पर लगे आरोप हटाने की अधिसूचना जारी कर चुके हैं. ग्रीनपीस के वकील अब इन लोगों को रूस से बाहर निकालने की तैयारी कर रहे हैं.

Demonstration für Annäherung der Ukraine an Europa in Berlin

ग्रीनपीस कार्यकर्ताओं के समर्थन में बर्लिन में प्रदर्शन

क्या चाहते हैं पुतिन

यह बात सब जानते हैं कि रूस में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मर्जी के बिना कुछ नहीं होता. ऐसे में माफी के इस खेल को पुतिन स्टाइल कूटनीति कहा जा रहा है. इस वक्त यूक्रेन, रूस और यूरोपीय संघ के बीच विवाद की धुरी बना हुआ है. यूक्रेन के ज्यादातर लोग यूरोपीय संघ में शामिल होना चाहते हैं, जबकि यूक्रेन के राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच रूस के साथ खास संधि कर चुके हैं. संधि के तहत यूक्रेन रूस का विशेष व्यापारिक साझेदार होगा. साथ ही मॉस्को कीव को अरबों डॉलर की आर्थिक मदद भी देगा. मदद की पहली खेप जारी कर दी गई है और रूस ने यूक्रेन के 3 अरब डॉलर के बॉन्ड खरीदे हैं.

यूक्रेन पर यूरोपीय संघ रूस से काफी नाराज है. अब माना जा रहा है कि रूसी राष्ट्रपति यूरोपीय संघ के अलग अलग देशों को एक एक कर ग्रीनपीस कार्यकर्ताओं को दी जा रही इन माफियों से आराम दे रहे हैं. ये कार्यकर्ता 18 देशों के हैं. जर्मन पत्रिका डेय श्पीगल के मुताबिक पुतिन के एक हाथ में छड़ी रहती है और दूसरे हाथ में गाजर. वो जानते हैं कि कब छड़ी मारनी है और कब गाजर देकर पुचकारना है.

हाल के दिनों में रूस ने सबसे पहले पुतिन विरोधी और एक दशक से जेल में बंद तेल कारोबारी मिखाएल खोदोरकोव्स्की को माफ किया.खोदोरकोव्स्की रिहा होते ही जर्मनी आ गए. जब तक दुनिया खोदोरकोव्स्की की रिहाई का मतलब समझ पाती तब तक रूस ने पूसी रायट बैंड की सदस्यों को रिहा कर दिया. अब ग्रीनपीस कार्यकर्ताओं की बारी है. ग्रीनपीस के 26 कार्यकर्ता विदेशी हैं. इनकी रिहाई के लिए अलग अलग देश जोर लगा रहे हैं. यह भी कहा जा रहा है कि सात फरवरी से रूसी शहर सोची में शुरू होने वाले विंटर ओलंपिक से पहले पुतिन अपनी छवि सख्त लेकिन माफ करने वाले महान नेता जैसी बनाना चाहते हैं.

ओएसजे/एमजे (एपी, एएफपी)

DW.COM