1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अब अमेरिका में भी क्रिकेट टी20

सिंगापुर स्थित एक भारतीय कंपनी ने अमेरिकी क्रिकेट संघ और न्यूजीलैंड क्रिकेट के साथ एक करार किया है जिसके तहत अमेरिका में 2012 से फ्रैंचाइजी आधारित टी20 लीग कराई जाएगी. आईसीसी भी इस कोशिश का समर्थन कर रही है.

default

पोदार होल्डिंग्स इंटरनेशनल पीडीई लिमिटेड और टॉप ब्लूम कॉर्पोरेशन अमेरिकी क्रिकेट संघ, न्यूजीलैंड क्रिकेट और एक ऑस्ट्रेलियाई खेल मार्केटिंग कंपनी इनसाइट के साथ हुए समझौते में संस्थापक साझीदार बने हैं. इसका मकसद आईसीसी के टारगेट मार्केट में से एक अमेरिका में क्रिकेट को बढ़ावा देना है. मीडिया विज्ञप्ति के मुताबिक यह समझौता 18 दिसंबर को लॉस एंजलिस में हुआ. इसके तहत क्रिकेट होल्डिंग्स अमेरिका एलएलसी को अमेरिका में व्यवसायिक क्रिकेट के ज्यादातर अधिकार दिए गए हैं.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के चीफ एग्जेक्यूटिव हारुन लोगार्ट ने इस पहल का स्वागत किया है. वह कहते हैं, "आईसीसी लंबे समय से अमेरिका को क्रिकेट के लिए एक अहम बाजार मानती है. हम इस नई साझेदारी का स्वागत करते हैं. हम उनकी कामयाबी के लिए दुआ करते हैं."

पोदार होल्डिंग्स इंटरनेशनल के डायरेक्टर राजीव पोदार कहते हैं, "अमेरिका में क्रिकेट के लिए बेहद संभावनाएं हैं. अमेरिका क्रिकेट की सबसे बड़ी मंजिलों में से एक बनने जा रहा है. क्रिकेट होल्डिंग्स अमेरिका एलएलसी दुनिया भर के क्रिकेट प्रेमियों के लिए बड़ी खबर है. पोदार इस कोशिश के साथ जुड़कर बहुत खुश हैं. हम लंबे समय के लिए निवेश करने को प्रतिबद्ध हैं."

उधर न्यूजीलैंड क्रिकेट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जस्टिन वागन कहते हैं कि अमेरिका में क्रिकेट को बढ़ावा देने से उनकी आमदनी बढ़ेगी. वह कहते हैं, "40 लाख की आबादी के साथ न्यूजीलैंड तो एक सीमित बाजार है. क्रिकेट होल्डिंग्स अमेरिका एलएलसी से हमारी आमदनी में इजाफा होगा." उन्होंने बताया कि समझौते के तहत न्यूजीलैंड क्रिकेट अमेरिका में क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए प्रबंधबन, कोचिंग और अन्य सुविधाए मुहैया कराएगा.

अमेरिकी क्रिकेट संघ के प्रमुख ग्लैडस्टोन डेंनटी का कहना है कि इस समझौते से देश की क्रिकेट संस्था को वहां खेल के जमीन तैयार करने में मदद मिलेगी. बाद में निजी अमेरिकी निवेशक भी इसमें पैसा लगा सकते हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links