1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अफरीदी संभालेंगे पाकिस्तान की कमान!

फरवरी में शुरू हो रहे वर्ल्ड कप क्रिकेट के लिए पाकिस्तान टीम का नेतृत्व शाहिद अफरीदी को सौंपे जाने की संभावना बढ़ गई है. पीसीबी चेयरमैन अफरीदी को कप्तानी देने के पक्ष में. एक साल से पाक वनडे टीम के कप्तान रहे हैं अफरीदी.

default

अफरीदी हैं फेवरेट

न्यूज एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के चेयरमैन इजाज बट शाहिद अफरीदी को ही कप्तान के रूप में देखना चाहते हैं और अपना मन बना चुके हैं. लेकिन कुछ बोर्ड के कुछ सदस्यों का मानना है कि मिसबाह उल हक भी बेहतर विकल्प हो सकते हैं.

न्यूजीलैंड के खिलाफ शनिवार को खेले गए मैच में अफरीदी ने धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए महज 25 गेंदों में 65 रन ठोंक दिए और उसके बाद से ही पलड़ा अफरीदी के पक्ष में होता नजर आ रहा है. इस जीत के बाद पाकिस्तान ने सीरीज बराबर कर ली.

Misbah ul Haq

मिसबाह भी दौड़ में

सूत्र ने बताया, "कप्तानी के मुद्दे पर टीम मैनेजमेंट और अन्य लोगों से बात कर इजाज बट इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि इस समय कप्तान को बदला जाना सही फैसला नहीं होगा. वनडे मैचों में अफरीदी 2009 के आखिर से ही कप्तान रहे हैं." ऐसी संभावना जताई जा रही है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड अगले एक दो दिन में वर्ल्ड कप के लिए पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान की घोषणा कर देगा.

क्रिकेट जगत में पाकिस्तान के भावी कप्तान की चर्चा काफी गर्म है क्योंकि 15 सदस्यीय वर्ल्ड कप टीम की घोषणा तो हो गई है लेकिन कप्तान पर फैसला अभी नहीं हुआ है. बहुत से पूर्व खिलाड़ियों का मानना है कि वर्ल्ड कप के लिए अफरीदी को कप्तानी देना ठीक नहीं है क्योंकि वह जल्दबाजी दिखाते हैं और कई मौकों पर उन्होंने संयम खोया है.

हालांकि पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शोएब मलिक अफरीदी का समर्थन कर रहे हैं. "मुझे नहीं लगता कि कप्तान को बदला जाना सही फैसला होगा. पिछले एक साल से अफरीदी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं. अब कप्तानी किसी दूसरे को सौंपना गलत होगा." मलिक ने बोर्ड को कप्तान चुनने के मामले में स्थायी नीति बनाने की सलाह दी है.

मलिक के मुताबिक किसी को कप्तानी सौंपे जाते समय उसे क्षमता साबित करने के लिए समय दिया जाना चाहिए. कप्तान के पास सुरक्षा और भरोसा होना चाहिए कि उसके पास टीम को विकसित करने का समय है. इस तरह से खिलाड़ी भी कप्तान का समर्थन करेंगे. अगर कप्तान को बार बार बदला जाता है तो इससे टीम का नुकसान होता है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: एमजी

DW.COM

WWW-Links