1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

अफजल गुरु की फांसी की सिफारिश संभव

भारत का गृह मंत्रालय संसद पर हुए आतंकवादी हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी की सिफारिश राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को भेज सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने पहले ही गुरु को फांसी की सजा सुना दी है और माफी की अपील राष्ट्रपति के पास है.

default

अफजल गुरु की पुरानी फोटो

समाचार एजेंसी पीटीआई ने गृह मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि गृह मंत्री पी चिदंबरम इस बात का फैसला ले सकते हैं कि राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को अफजल गुरु की माफी न देने की सिफारिश कर दी जाए. इस सिलसिले की फाइल जल्द ही प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के दफ्तर में भेजी जा सकती है, जहां से उसे फिर राष्ट्रपति के पास भेजा जाना होगा.

अफजल गुरु की पत्नी तबस्सुम ने चार साल पहले माफी की अपील की थी. उधर, राष्ट्रपति भवन के प्रवक्ता का कहना है कि राष्ट्रपति को अभी तक इस सिलसिले में कोई फाइल नहीं मिली है. प्रवक्ता ने कहा, "गृह मंत्रालय की ओर से हमें अफजल गुरु की फांसी से जुड़ी कोई फाइल नहीं मिली है."

Proteste in Indien

कश्मीर में फांसी का विरोध

अफजल गुरु दिसंबर 2001 में भारतीय संसद पर हुए आतंकवादी हमले का करार दोषी है. उसे दिल्ली की निचली अदालत ने ही फांसी की सजा सुनाई थी. इसके बाद हाई कोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट ने उसकी सजा बरकरार रखी. यहां तक कि उसके फांसी का दिन भी मुकर्रर हो गया था और उसे 20 अक्तूबर 2006 को फांसी पर लटकाया जाना था. लेकिन इसके बाद उसकी दया की अपील की वजह से यह नहीं हो पाया.

अफजल गुरु की फांसी से जुड़ी एक फाइल बरसों तक दिल्ली सरकार के पास भी अटकी रही और मीडिया में इसकी खबर आने के बाद इसे गृह मंत्रालय भेजा गया. अब गृह मंत्रालय की कार्रवाई के बाद राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को अंतिम फैसला करना है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः महेश झा

संबंधित सामग्री