1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अफगानिस्तान: भूस्खलन में 2100 से ज्यादा की मौत

अफगानिस्तान के उत्तर पूर्व के बदख्शां में हुए भूस्खलन के बाद करीब 2100 लोगों की मौत हो गई है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक प्रांतीय सरकार ने मृतकों की संख्या की पुष्टि की है. हादसे के बाद अब भी कई लापता हैं.

बदख्शां प्रांत के गवर्नर के प्रवक्ता नवीद फोरोतन ने कहा, "तीन सौ परिवारों के 2100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है." अधिकारियों का कहना है कि इलाके में और भूस्खलन का खतरा बना हुआ है. संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि शुक्रवार को हुए हादसे में विस्थापित हुए 4000 हजार लोगों पर उसका ध्यान केंद्रित है. भूस्खलन के दूसरे दिन शनिवार को सैकड़ों बचावकर्मी और स्वयंसेवक बेलचों के साथ इलाके में राहत कार्य में जुटे हुए हैं. मलबे और मिट्टी की वजह से बचावकर्मियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. बदख्शां प्रांत के आपदा प्रबंधन विभाग के निदेशक अब्दुल्लाह हुमायूं का कहना है कि होबो बरक गांव में हुए हादसे में कितने लोग मारे गए हैं इस बारे में सटीक आंकड़ा बताना मुश्किल है. हालांकि शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र ने कहा था कि कम से कम साढ़े तीन सौ लोग मारे गए हैं जबकि प्रांत के गवर्नर का कहना था करीब दो हजार लोग लापता हैं. राहत कार्य का जायजा लेने के लिए काबुल से वरिष्ठ अधिकारी बदख्शां के लिए रवाना हो रहे हैं जिनमें देश के उप राष्ट्रपति भी शामिल हैं.

अफगानिस्तान के उत्तर पूर्व में बसे बदख्शां प्रांत में पहुंचने के लिए बचावकर्मियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. क्योंकि वहां आधारभूत ढांचे और अच्छी सड़कों की कमी है. इस हफ्ते की शुरुआत में हुई भारी बारिश के कारण यह भूस्खलन हुआ है. पिछले तीन दशकों से युद्ध और लड़ाई से जूझ रहा अफगानिस्तान प्राकृतिक आपदाओं का भी शिकार होता आया है जिनमें भूस्खलन और हिमस्खलन शामिल हैं. साल 2012 में हुए भूस्खलन में 71 लोगों की मौत हो गई थी. बचावकर्मी मलबे से ज्यादातर शव को अब तक निकाल नहीं पाए हैं और अधिकारियों ने उसे बड़े पैमाने पर कब्रिस्तान घोषित कर दिया है.

एए/आईबी (एपी, रॉयटर्स)

संबंधित सामग्री