1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

अपने ही खेत की दवाई उगाई

कहते हैं कि मन में लगन और इरादे बुलंद हों तो कोई काम असंभव नहीं है. उड़ीसा के पिछड़े समझे जाने वाले कटक जिले में कोचिला नगांव के लोगों ने इस कहावत को एक बार फिर चरितार्थ कर दिखाया है.

default

कुछ साल पहले तक यह गांव बहुत ही ज्यादा पिछड़ा हुआ था. लेकिन अब गांव वालों की पहल से तस्वीर बदल गई है. दो हजार की आबादी वाले आदिवासियों के इस गांव में स्वास्थ्य सेवाओं का बेहद अभाव है. सबसे नजदीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भी यहां से पांच किमोलीमटर दूर मंगराजपुर में है. ठीक-ठाक अस्पताल की तलाश में कोई 20 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है. लेकिन वहां तक जाने के लिए यातायात का कोई समुचित साधन नहीं है. इस गांव से बाहर जाने के लिए पांच-पांच घंटे के अंतराल पर चलने वाली एकमात्र बस ही अकेला साध है. वह भी अक्सर खराब रहती है.

जहां चाह वहां....

गंव में हर साल मलेरिया और दूसरी छोटी-मोटी बीमारियों से कई लोग मर जाते थे. आसपास इलाज की कोई सुविधा थी नहीं और दूर जाने के लिए न तो साधन था और न ही पैसे. ऐसे में गांव वालों ने खुद ही इस समस्या का समाधान निकाल लिया है. और वह समाधान है आयुर्वेद का. गांव के लोग अब आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के सहारे ही कई बीमारियों का घर बैठे इलाज कर लेते हैं. इस गांव की रहने वाली सरिता विश्वाल बताती है कि गांव के नजदीक स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध नहीं है. नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र भी पांच किलोमीटर दूर है. इसलिए गांव वालों ने खुद पहल कर आयुर्वेद का सहारा लेने का फैसला किया.

Frauen in Kochila

गांव में कोई डॉक्टर नहीं

इसकी शुरूआत कुछ साल पहले हुई थी. संबंध नामक एक गैर-सरकारी संगठन ने गांव वालों को आयुर्वेदिक इलाज का तरीका बताया था और साथ ही उनको कुछ पौधे भी दिए थे. उसके बाद गांव वालों ने अपने खेतों और बागानों में इन पौधों की खेती शुरू की. अब बीते दो साल से मलेरिया और पीलिया समेत तमाम बीमारियों के इलाज के लिए गांव वाले स्वास्थ्य केंद्र का रुख ही नहीं करते. अब उनके पास ही इनका इलाज मौजूद है.

आयुर्वेद ही क्यों

आखिर गांव वालों में आयुर्वेद के प्रति झुकाव कैसे हुआ. इस सवाल पर किशन नायक कहते हैं---आयुर्वेद के इस्तेमाल की वजह यह है कि हमारे पास अंग्रेजी इलाज के लिए पैसे नहीं हैं. यहां गांव के आसपास कोई स्वास्थ्य केंद्र या दवाखाना नहीं हैं. अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्र काफी दूर हैं और वहां तक जाने का कोई साधन उपलब्ध नहीं है. अगर किसी मरीज को इमरजेंसी में डाक्टर के पास ले जाना हो तो तब भी हमारे पास कोई साधन नहीं है.

DW.COM