1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अपने बलबूते चलेगा आईपीएल: धोनी

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने ट्वेंटी20 वर्ल्ड कप से पहले आईपीएल विवाद से पल्ला झाड़ने की कोशिश की है. हालांकि धोनी ने विश्वास जताया है कि तमाम विवादों के बावजूद आईपीएल ब्रांड को चोट नहीं पहुंचेगी.

default

आईपीएल 3 अपने नाम करने वाली चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान धोनी आईपीएल विवाद पर पूछे गए सवालों से कन्नी काटते नज़र आए. धोनी ने उम्मीद जताई है कि अगले सीज़न से पहले सभी विवादों का पटाक्षेप हो जाएगा.

Chennai Super Kings Cricket

"आईपीएल एक ऐसा ब्रांड है जो अपने बलबूते चलेगा. लेकिन इसके लिए ज़रूरी है कि नए तौर तरीक़े से लीग को बेहतर बनाने की कोशिश की जाए. एक साथ मिल कर अगर लोग काम करें तो बेहतरीन नतीजे सामने आ सकते हैं."

आईपीएल लीग में धांधली और भ्रष्टाचार के आरोपों पर धोनी ने बताया कि उन्हें नहीं पता कि आने वाले दिनों में क्या होगा. "जांच करना प्रशासन का काम है. फ़िलहाल इनकम टैक्स, आईपीएल गवर्निंग काउंसिल सहित कई अन्य विभाग इस मामले की जांच कर रहे हैं. वो कुछ अच्छे नतीजों के साथ सारी बातों को बाहर लाएंगे."

धोनी ने निलंबित आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी के भविष्य पर उठ रही अटकलों पर प्रतिक्रिया देने में सतर्कता बरती. ललित मोदी के बिना आईपीएल पर धोनी ने कहा, "पहले तीन सीज़न में ललित इसके साथ रहे हैं. हर सीज़न में लीग का स्तर बेहतर होता गया है. कहना मुश्किल है कि उनके बिना क्या होगा."

आईपीएल में मैच फ़िक्सिंग की अपुष्ट रिपोर्टों पर धोनी ने कहा कि ऐसे आरोपों को सावधानी से देखे जाने की ज़रूरत है. धोनी के मुताबिक़ अगर कोई दोषी पाया जाता है तो फिर उसे सज़ा दी जानी चाहिए.

"किसी भी क्रिकेटर के ख़िलाफ़ यह सबसे ख़राब आरोप होता है. अगर किसी पर संदेह है तो बड़ी सावधानी से जांच होनी चाहिए. खेल साफ़ सुथरा होना चाहिए. दोषी क्रिकेटरों को सज़ा मिलनी चाहिए. मैच फ़िक्सिंग से नाम ख़राब होता है."

वेस्ट इंडीज़ में ट्वेंटी20 विश्व कप से पहले धोनी ने आईपीएल में ज़्यादा खेलने से हुई थकान की आशंका को ख़ारिज किया है. धोनी का कहना है कि आईपीएल से ज़्यादा अहम देश के लिए खेलना है और खिलाड़ियों को यह एहसास ही जोश में भर देगा. धोनी के मुताबिक़ हर खिलाड़ी फ़िट है और टूर्नामेंट में खेलने के लिए बेताब है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: महेश झा