1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

अनोखे कारनामे के साथ भारतीय छात्रा लिम्का बुक में

भारत के हैदराबाद की रहने वाली एक इंजीनियरिंग की छात्रा का नाम लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया है. उन्होंने एक अंडरग्रैजुएट रिसर्चर के तौर सबसे ज्यादा रिसर्च पेपर छपवाने का कारनामा कर दिखाया है.

default

दिव्या पावर सप्लाई के नए रास्ते तलाश रही हैं

इनमें से ज्यादातर रिसर्च पेपर अंतरराष्ट्रीय स्तर के हैं. बीटेक की छात्रा वी पी दिव्या सिर्फ 20 साल की हैं. वह श्रीनिधि इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नॉलजी में पढ़ती हैं. उनके नाम से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के 16 रिसर्च पेपर छप चुके हैं. यही नहीं, उनके सात अन्य रिसर्च पेपर जल्द ही छपने वाले हैं.

लेकिन उनकी उपलब्धियां यहीं खत्म नहीं होतीं. उनका रिकॉर्ड इतना अनोखा है कि उसके लिए लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स को एक अलग कैटेगरी बनानी पड़ी है. लिम्का बुक के वी वी आर मूर्ति ने बताया कि लिम्का बुक में अब तक इस तरह की कैटेगरी नहीं थी. इस तरह का रिकॉर्ड दर्ज कराने वाली दिव्या पहली इंसान होंगी.

दिव्या बिजली सेक्टर पर अध्ययन कर रही हैं. उन्होंने खासतौर पर बिजली की मांग के मैनेजमेंट पर काम किया है जिससे उद्योगों और घरेलू इस्तेमाल के लिए दी जाने वाली बिजली में संतुलन बनाया जा सके.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा