1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

'अदृश्य' चीनी विमान की पहली उड़ान

रडार की पकड़ में न आने वाले और घरेलू तौर पर विकसित चीन के लड़ाकू विमान ने अपनी पहली उड़ान भरी है. चीन के सरकारी मीडिया में लड़ाकू विमान की उड़ान भरते तस्वीरें छपी हैं. अमेरिकी रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स चीन यात्रा पर.

default

ये तस्वीरें चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ और ग्लोबल टाइम्स अखबार में छपी हैं. इनमें चीन के पहले जे-20 लड़ाकू विमान को दक्षिणपश्चिमी शहर शेंगदू में उड़ता दिखाया गया है. प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से छपी रिपोर्टों के मुताबिक उतरने से पहले विमान ने 15 मिनट की परीक्षण उड़ान भरी. चीन में घरेलू तौर पर विकसित और रडार की पकड़ में न आने वाले लड़ाकू विमान पर रिपोर्टें ऐसे समय में आई हैं जब अमेरिकी रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स चीन यात्रा पर गए हैं.

US-Verteidigungsminister Robert Gates in Peking

एक साल पहले ताइवार को अरबों डॉलर के हथियार बेचे जाने के विरोध में चीन ने अमेरिका के साथ सैन्य संबंधों को तोड़ लिया था. सैनिक रिश्तों की बहाली के प्रयासों के तहत ही रॉबर्ट गेट्स चीन गए हैं.

पिछले हफ्ते रिपोर्टें आईं कि चीन ने अपने पहले 'अदृश्य' लड़ाकू विमान का पहला मॉडल तैयार कर लिया है. सेना के तेजी से हो रहे आधुनिकीकरण की दिशा में इसे एक अहम संकेत माना गया.

जे-20 लड़ाकू विमान की पहली उड़ान की रिपोर्टों पर चीन के रक्षा मंत्रालय की ओर से अभी कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता होंग लाई से जब परीक्षण उड़ान के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "चीन ऐसी रक्षा नीति को अपनाता रहा है जो आत्मरक्षा पर आधारित है और किसी अन्य देश के सामने खतरा पैदा नहीं करती. विज्ञान और तकनीक के विकास के साथ ही राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत करने की भी जरूरत है. यह स्वाभाविक है कि देश अपने हथियारों को विकसित करे." लेकिन लड़ाकू विमान की परीक्षण उड़ान की पुष्टि उन्होंने नहीं की.

चीन के सैन्य विकास पर नजर रख रहे कान्वा सूचना केंद्र के प्रमुख आंद्रेई चांग ने बताया कि लड़ाकू विमान को पूरी तरह विकसित किया जाना बाकी है. "लड़ाकू विमान को अभी कई अन्य परीक्षणों से गुजरना है. चीन की वायु सेना ने अभी व्यापक तौर पर इसका परीक्षण नहीं किया है."

लेकिन चीन में युद्धक विमानों के तेजी से विकास और सेना के आधुनिकीकरण ने दुनिया के कई देशों के कान जरूर खड़े कर दिए हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार

DW.COM