1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अदालत के बाहर बोले असांज, और छापूंगा

विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज ने कहा है कि उनकी वेबसाइट अमेरिका के कुछ और गोपनीय दस्तावेज जारी करने वाली है. यह बात उन्होंने लंदन में कोर्ट के बाहर कही जहां उनके स्वीडन को प्रत्यार्पण पर सुनवाई हुई.

default

अदालत ने कहा है कि असांज के प्रत्यर्पण पर सुनवाई 7 और 8 फरवरी को होगी. अदालत की कार्रवाई कुल 10 मिनट चली. जिला जज निकोलस इवान्स ने कहा कि अगले महीने दो दिन में ही मामले की पूरी सुनवाई होगी. इस कार्रवाई के दौरान दुनियाभर के 100 से ज्यादा पत्रकार लंदन वूलविच क्राउन कोर्ट में मौजूद थे. असांज के मामले को वूलविच कोर्ट में इसीलिए भेजा गया है क्योंकि यहां जगह ज्यादा है और ज्यादा पत्रकार आ सकते हैं.

Julian Assange London Gericht Wikileaks

स्वीडन के अधिकारी असांज से सवाल जवाब करना चाहते हैं. वहां की दो महिलाओं ने असांज पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं. हालांकि 39 वर्षीय असांज इन आरोपों को गलत बताते हैं. उनका कहना है कि विकीलीक्स के काम की वजह से उन पर इस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं जो राजनीति से प्रेरित हैं.

सुनवाई के बाद असांज ने कहा, "हम आज के नतीजे से खुश हैं. विकीलीक्स के जरिए हमारा काम निर्बाध जारी है. हम कुछ और दस्तावेज छापने की तैयारी कर रहे हैं. ये दस्तावेज हमारे साझीदार अखबारों और मानवीय संस्थाओं के जरिए जल्दी ही जारी किए जाएंगे." कोर्ट में असांज काफी तनावरहित नजर आए. नीली कमीज पहने असांज को शीशे के केबिन में बिठाया गया. सुनवाई से पहले वह जेल की दो महिला अधिकारियों के साथ हंसी मजाक करते दिखाई दिए.

जज ने असांज की जमानत की शर्तों को बदलकर सुनवाई से पहले 6 और 7 फरवरी की रात उन्हें फ्रंटलाइन क्लब में रहने की इजाजत दे दी. यहीं से विकीलीक्स का कामकाज चलता है. वैसे असांज 16 दिसंबर को जमानत पर रिहा होने के बाद से पूर्वी इंग्लैंड के वॉगन स्मिथ के एस्टेट में रह रहे हैं. स्मिथ फ्रंटलाइन क्लब के संस्थापकों में से एक हैं.

अदालत में सुनवाई के दौरान कई जानेमाने नाम भी मौजूद थे. इनमें क्रिकेटर इमरान खान की पूर्व पत्नी जेमिमा खान और मानवाधिकार कार्यकर्ता बियांका जैगर भी शामिल हैं जो असांज की तगड़ी समर्थक हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links