1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

"अतीत पर अफसोस नहीं"

कनाडा के वयस्क फिल्म उद्योग से भारत के बॉलीवुड में जगह बनाने वाली सनी लियोनी का कहना है कि उन्हें अपने पुराने करियर को लेकर कोई मलाल नहीं है. कोलकाता पहुंची लियोनी ने डॉयचे वेले से बातचीत की.

हालांकि अब वह अपनी छवि बदलना चाहती हैं. उनकी नई फिल्म जैकपॉट शुक्रवार को रिलीज हो रही है. डायचे वेले के साथ इंटरव्यू के कुछ अंश.

आपका बचपन कैसे गुजरा?

मैं पूरी तरह भारतीय हूं. मेरे पिता चंडीगढ़ के थे और मां हिमाचल की. काम के सिलसिले में वह कनाडा गए जहां मेरा जन्म हुआ. बाद में हम लोग कैलिफोर्निया चले गए. पिता इंजीनियर थे. बचपन काफी बढ़िया गुजरा. मेरे माता पिता ने कभी मुझ पर किसी चीज के लिए दबाव नहीं डाला. दुर्भाग्य से मेरे वालीवुड में आने से पहले दोनों की मौत हो गई.

लेकिन उन्होंने आपको वयस्क फिल्मों में काम की अनुमति कैसे दी?

उन्होंने अनुमति नहीं दी. मैं अभिनय के क्षेत्र में हाथ आजमाना चाहती थी. लेकिन संयोग से मुझे वैसे ही ऑफर मिले. उन फिल्मों में काफी पैसा था. इसलिए मैंने खुद उनके लिए हामी भर दी. बाद में जब मैंने उनको बताया तो उनको सदमा लगा. लेकिन उन्होंने मेरे बेहतर भविष्य का कामना की.

क्या आपको अब उस फैसले पर अफसोस है?

मुझे अपने अतीत पर कोई अफसोस नहीं. बिग बॉस में आने से पहले ही मैंने उन फिल्मों से नाता तोड़ लिया था. मुझे उसके लिए कोई शर्मिंदगी नहीं महूसस होती. अब तक के करियर से बेहद संतुष्ट हूं.

एक व्यक्ति के तौर पर सनी लियोनी कैसी हैं?

मैं कड़ी मेहनत में भरोसा करती हूं. मेरा भरोसा भगवान और कर्म पर है. निजी जीवन में मैं एक सामान्य गृहिणी हूं. किसी को भी जीवन में एक बेहतर इंसान बनने की कोशिश करनी चाहिए और दूसरों के साथ धोखा नहीं करना चाहिए. मैं हमेशा यही कोशिश करती हूं कि मेरी वजह से किसी को ठेस न पहुंचे.

आपकी नई फिल्म कैसी है?

यह मेरी दूसरी फिल्म है. इसमें मैंने काफी मेहनत की है. अभिनय के लिहाज से मुझमें निखार आया है. अब इस बारे में अंतिम फैसला तो दर्शकों का ही होगा.

वयस्क फिल्मों से बॉलीवुड तक का सफर कैसा रहा है?

यही सही बात है कि वैसी फिल्मों में काम करने के बाद किसी अभिनेत्री के लिए मुख्यधारा की फिल्मों में कामयाब होना लगभग असंभव है. लेकिन मैं इस मामले में भाग्यशाली हूं. मुझे दर्शकों ने स्वीकार कर लिया है. अब तक का सफर बेहद संतषजनक रहा है. इस कामयाबी का श्रेय काफी हद तक बिग बॉस में मेरी भागीदारी को भी जाता है. उससे लोगों को मेरे असली व्यक्तित्व की झलक मिली. सीधे बालीवुड में आने पर शायद मुझे काम नहीं मिलता.

कौन सी हिंदी फिल्म आपको सबसे ज्यादा पसंद आई है?

आशिकी 2 मुझे बेहद पसंद आई है. इसे देखते हुए मेरी आंखों से लगातार आंसू निकलते रहे.

जैकपॉट में नसीरुद्दीन शाह के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा?

वह एक महान अभिनेता हैं. उनके साथ काम करते हुए काफी सहज महसूस होता है. वह यह महसूस ही नहीं होने देते कि कितने बड़े अभिनेता हैं.

इंटरव्यूः प्रभाकर, कोलकाता

संपादनः अनवर जे अशरफ

DW.COM