1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अज़लान शाह: मिस्र को रौंद कर भारत फ़ाइनल में

ड्रैग फ़्लिकर धनंजय महादिक की हैट्रिक और अन्य खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने मिस्र को 7-1 से ध्वस्त कर अज़लान शाह कप हॉकी टूर्नामेंट के फ़ाइनल में प्रवेश कर लिया है. फ़ाइनल में मुक़ाबला द. कोरिया से.

default

फ़ाइनल में पहुंची टीम

मलेशिया के इपोह में खेले जा रहे टूर्नामेंट में भारत की ओर से धनंजय महादिक (34वें, 40वें, 42वें मिनट), कप्तान राजपाल सिंह (44वें मिनट), रुपिंदर पाल सिंह (48वें मिनट), तुषार खांडेकर (49वें मिनट) और सरवनजीत सिंह (70वें मिनट) ने गोल किए. मिस्र की ओर से एकमात्र गोल अब्द अल हकीम अहमद ने मैच के 68वें मिनट में किया. फ़ाइनल में पहुंचने के लिए मौजूदा चैंपियन भारत को इस मैच को जीतना ज़रूरी था.

Hockey Shivendra Singh

फ़ाइनल में भारत का मुक़ाबला रविवार को कोरियाई टीम से होगा. भारत अब तक इस प्रतियोगिता के फ़ाइनल में 6 बार पहुंच चुका है और 4 बार जीत (1985, 1991, 1995, 2009) उसके हाथ लगी है. 2008 में भी भारत फ़ाइनल में पहुंचा था लेकिन अर्जेंटीना ने उसे हरा दिया था.

मैच का नतीजा भारत का दबदबा दिखाता है लेकिन पहले हाफ़ में मिस्र के खिलाड़ियों ने भारत को संघर्ष करने पर मजबूर कर दिया. वैसे तो शुरुआत से ही भारत ने हमले करने शुरू कर दिए थे लेकिन मिस्र की रक्षा पंक्ति एक दीवार की तरह अड़ी रही और भारत पहले हाफ़ के 34वें मिनट तक गोल के लिए तरसता रहा. धनंजय महादिक ने ही छठे पेनल्टी कॉर्नर पर फ़्लिक कर भारत को 1-0 की बढ़त दिलाई.

भारत के फ़ॉरवर्ड खिलाड़ियों शिवेंद्र सिंह, राजपाल सिंह, मंदीन अंतिल और तुषार खांडेकर को मिडफ़ील्डरों का अच्छा साथ मिला लेकिन पहले हाफ़ में बढ़त 1-0 की ही रही. लेकिन दूसरा हाफ़ शुरू होते ही भारत को ताबड़तोड़ सफलता मिलनी शुरू हो गई. हलप्पा और शिवेंद्र ने भारत को शॉर्ट कॉर्नर दिलवाए तो महादिक ने उन्हें आसानी से 40वें मिनट और 42वें मिनट में दो गोलों में तब्दील कर दिया.

इसके बाद राजपाल सिंह ने भी भरत चिकारा से मिले पास को गोलकीपर के पार पहुंचाने में कोई ग़लती नहीं की. भारत को मिले दसवें पेनल्टी कॉर्नर को सफल बनाया फ़रीदकोट के युवा खिलाड़ी रूपिंदर पाल सिंह और सीनियर टीम के लिए यह उनका पहला गोल था.

अगले ही मिनट में तुषार खांडेकर ने राजपाल सिंह के साथ मिलकर एक और गोल मिस्र पर ठोंक दिया. अचानक गोलों की बाढ़ से परेशान मिस्र ने मुश्किलें कम करने की कोशिश की और 68वें मिनट में हकीम अहमद ने गोल भी किया लेकिन मिस्र की गाड़ी वहीं थम गई.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: महेश झा

संबंधित सामग्री