1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

अच्छे कॉमेडियन जल्दी मरते हैं

ऑस्ट्रेलियाई रिसर्चरों का दावा है कि अधिक हंसाने वाले हास्य कलाकारों के जल्दी मरने का ज्यादा खतरा होता है. क्या वाकई बाहर से हंसाने वाले अंदर से रो रहे होते हैं?

सिडनी के मैरी मैककिलप इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ रिसर्च के शोधकर्ताओं ने अमेरिकी कॉमेडियन रॉबिन विलियम्स की मौत के बाद इस बात पर ध्यान देना शुरू किया. उन्होंने पाया कि हर समय मजाकिया होना आपके स्वास्थ्य के लिए समस्या हो सकती है. जो हास्य कलाकार जितना ज्यादा मजाकिया होता है उसके जीवन को उतना ही ज्यादा खतरा रहता है.

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ कार्डियोलॉजी में छपी रिपोर्ट को तैयार करने वाले प्रोफेसर सायमन स्टीवर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा हंसाने वाले कॉमेडियन अंदर से सबसे ज्यादा कमजोर होते हैं. उनके मुताबिक, "आपके जीवन में सबकुछ बस अच्छा हो और बुरा न हो ऐसा नहीं होता. हास्य कला के मामले में इनमें कमाल की खूबी होती है, लेकिन क्या हम वाकई यकीन के साथ कह सकते हैं कि ये जीवन भर हंसते रहते हैं?" उन्होंने बताया, "निजी जिंदगी में कई कॉमेडियन अवसाद का शिकार होते हैं." हास्य कला में पारंगत होने का कुछ असर सेहत पर भी पड़ता है.

रिसर्चरों ने 53 हास्य कलाकारों से जुड़े आंकड़े जमा किए जिनमें मॉन्टी पायथन टीम के सदस्य, पीटर सेलर्स और रॉबिन विलियम्स भी शामिल किए गए. 10 में से 8 या फिर पूरे 10 अंक हासिल करने वाले सबसे बेहतर 23 कलाकारों में से 12 की जल्दी मृत्यु हो गई. इन लोगों की औसत आयु 63 साल रही जबकि कम हंसाने वाले कलाकार आमतौर पर 72 साल की उम्र तक जीवित रहे.

एसएफ/एमजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री