1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सचिन तेंदुलकर का सफर

सचिन तेंदुलकर आज क्रिकेट की दुनिया पर राज करते हैं लेकिन शुरुआती दिनों में वह बेहद मासूम दिखने वाले खिलाड़ी के रूप में सामने आए. लेकिन इसी मासूमियत के पीछे छिपी थी उनकी फौलादी इच्छा शक्ति. एक नजर उनके सफर पर.

default

(सचिन के करियर से जुड़े आंकड़ों पर और जानकारी के लिए आर्टिकल के नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें)

1989: पाकिस्तान के खिलाफ कराची टेस्ट में 16 साल की उम्र में सचिन तेंदुलकर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया.

1990: ओल्ड ट्रैफर्ड में इंग्लैंड के खिलाफ तेंदुलकर ने टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला शतक जड़ा.

1992: इंग्लैंड से बाहर जन्मे और यॉर्कशायर काउंटी के लिए खेलने वाले सचिन तेंदुलकर पहले खिलाड़ी बने. उस समय उनकी उम्र सिर्फ 19 साल थी.

1994: श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो वनडे में सचिन ने अपना पहला एकदिवसीय शतक बनाया. पहले वनडे शतक के लिए उन्हें 79 मैचों का इंतजार करना पड़ा.

1996: भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका में खेले गए वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बने. सचिन तेंदुलकर ने 523 रन बनाए.

1996: भारतीय टीम की कमान संभाली लेकिन टीम की बागडोर उन्हें रास नहीं आई.

1997: विजडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुने गए.

Der indische Cricketstar Sachin Tendulkar

1998: मुंबई के ब्रेबोर्न स्टेडियम में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना पहला दोहरा शतक जमाया.

1999: न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे मैच में राहुल द्रविड़ के साथ मिलकर 339 रन की साझेदारी की जो एकदिवसीय इतिहास में भारत की सबसे बड़ी साझेदारी है. इसी मैच में तेंदुलकर ने नाबाद 186 रन बनाए जो भारत के किसी भी बल्लेबाज का सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर बना.

2000: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज के बाद सचिन तेंदुलकर कप्तानी छोड़ देते हैं.

2001: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ कथित बॉल टैंपरिंग मामले में सचिन को एक मैच की पाबंदी की निलंबित सजा दी गई. लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल की जांच के बाद सजा वापस ले ली गई.

2003: वर्ल्ड कप में सचिन तेंदुलकर को प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया. सचिन ने 673 रन बनाकर बाकी बल्लेबाजों को पीछे छोड़ दिया.

2005: दिल्ली में श्रीलंका के खिलाफ शतक जमाकर सचिन ने सुनील गावस्कर के 34 शतकों के कि रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा. सचिन के नाम दर्ज हुए 35 शतक.

2006: कपिल देव से आगे निकलते हुए सचिन तेंदुलकर भारत के लिए सबसे ज्यादा टेस्ट मैच (135 टेस्ट) खेलने वाले खिलाड़ी बने.

2007: भारत से दूर विकेटों पर 5,751 रन बनाकर विदेशी जमीन पर रन बनाने के मामले में ब्रायन लारा को पीछे छोड़ा.

2007: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलते हुए वनडे मैचों में 15 हजार रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी बने.

2008: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलते हुए सबसे ज्यादा वनडे मैच खेलने का रिकॉर्ड अपने नाम किया. (471 वनडे)

2008: भारत के लिए 150 टेस्ट मैच खेलने वाले पहले खिलाड़ी. वर्ल्ड क्रिकेट के इतिहास में सिर्फ तीन खिलाड़ियों को यह गौरव हासिल है.

2008: टेस्ट क्रिकेट में ब्रायन लारा (11,953 रन) को पीछे छोड़ते हुए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बने. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट में 16 रन बनाने पर पूरा किया रिकॉर्ड.

2010: वनडे क्रिकेट के इतिहास में दोहरा शतक जमाने वाले पहले खिलाड़ी. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच में सचिन ने पाकिस्तान के सईद अनवर और जिम्बाब्वे के चार्ल्स कोवेंट्री को पीछे करते हुए 200 रन बनाए.

2010: - स्टीव वॉ से आगे निकलते हुए सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के इतिहास में सबसे ज्यादा टेस्ट (169 टेस्ट)खेलने वाले खिलाड़ी बने.

2010: सेंचुरियन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सचिन ने अपना 50वां शतक जमाया.

संकलन: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: एन रंजन

WWW-Links